शब्द के कितने भेद होते है | उदहारण सहित समझे | [ मिनटों में याद होगा ]

आज हम सब जानेगे शब्द किसे कहते है ? शब्द के कितने भेद होते है | साथ साथ शब्द के सभी भेदों के उदहारण को भी जानगे |

शब्द के कितने भेद होते हैं

शब्द के कितने भेद होते है

शब्द किसे कहते है- दो या दो से अधिक सार्थक वर्णों के मेल को शब्द कहते है | जैसे- ज+ल = जल |

शब्द के भेद- शब्द के मुख्यतः चार भेद होते है जिसका नीचे वर्णन किया गया है |

1- उत्पत्ति के आधार पर

  1. तत्सम
  2. तद्भव
  3. देशी
  4. विदेशी
  5. संकर

2-रचना या बनावट के आधार पर

  1. रूढ़
  2. यौगिक
  3. योगरूढ़

3-प्रयोग या रूपांतरण के आधार पर

  1. विकारी
  2. अविकारी

4-अर्थ के  आधार पर

  1. समानार्थी / पर्यायवाची
  2. विलोम शब्द
  3. एकार्थी
  4. अनेकार्थी

हम इस सारणी के द्वारा इसके  शब्द के कितने भेद होते है | आसानी से समझ सकते है —

1- उत्पत्ति के आधार पर 2-रचना या बनावट के आधार पर 3-प्रयोग या रूपांतरण के आधार पर 4-अर्थ के  आधार पर
तत्सम

रूढ़

विकारी समानार्थी / पर्यायवाची
तद्भव यौगिक अविकारी विलोम शब्द
देशी योगरूढ़ एकार्थी
विदेशी अनेकार्थी
संकर

उत्पत्ति के आधार पर

तत्सम शब्द- संस्कृत के ऐसे शब्द जिनको हिंदी में ज्यो का त्यों लिख दिया जाता है उसे तत्सम शब्द कहते है | जैसे-

  • दुर्लभ = दूल्हा
  • आकाज = कार्य
  • मंडप = मेढक
  • हस्त = हाथ  आदि |

तद्भव शब्द- संस्कृत के ऐसे शब्द जिन शब्दों में कुछ न कुछ परिवर्तन करके हिंदी में लिखा जाता है उसे तद्भव शब्द कहते है | जैसे-

  • गर्दभ = गधा
  • दुग्ध = दूध

देशी शब्द-  हिंदी के ऐसे शब्द जिनकी उत्पत्ति का पता न हो तो, ऐसे शब्दों को देशी शब्द कहते है | जैसे-

लोटा-वोट, छोरा-छोरी, डिबिया, डंडा, चंगा, कटोरा, चप्पल, जूता, पगड़ी, खिचड़ी, कटरा(भैंस का बच्चा), तेन्दुआ आदि |

विदेशी शब्द- हिंदी में आये हुए विदेशी भाषा के ऐसे शब्दों को, विदेशी शब्द कहते है | नीचे कुछ अलग अलग विदेशी भाषाओं के शब्दों को बताया गया है-

  • अरबी के शब्द- अक्ल, अदालत, आदमी, इलाज, औलाद, कानून, कुर्सी, किताब, कीमत, दुनिया, जनाब, नशा, फ़क़ीर, तूफान, तराजू, तमाशा, तारीख, शादी, सतरंज, अख़बार आदि शब्द |
  • फारसी के शब्द- हिंदी, अमरुद, खजाना, खून, गवाह, नामक, गुब्बारा, गुलाब, चश्मा, जानवर, मजदूर, दरवाजा, शराब, तनखाह, दर्जी, दवा, दिलेर, मलाई, शेर, जिलेबी, पैजामा, बेकार, बेरहम, आसमान, आइना आदि शब्द |
  • तुर्की/टर्की के शब्द- बेगम, बावर्ची, बहादुर, तोप, बारूद, कैंची, काबू, उर्दू, चेंचक, चक, खंजर, चम्मच, मुग़ल, दरोगा, ताश, चाकू आधी शब्द |
  • फ्रांसीसी के शब्द- अंग्रेजी,काजू, कारतूस, कवन, टेबल, मेयर, मीन आदि शब्द |
  • चाइनीज के शब्द- लीची, चीकू, चाय, तूफान, इलाइची, लोकाट आदि शब्द |
  • जापानी के शब्द- रिक्शा, सायोनारा(अलविदा), सुनामी आधी शब्द |
  • यूनानी के शब्द- आइटम, एटलस, टेलीफ़ोन, बाइबिल, एकेडमी आदि शब्द |
  • पुर्तगाली के शब्द- आलमारी, गमला, तौलिया, बाल्टी, साबुन, कनस्टर, चाबी, इस्त्री, कप्तान आदि शब्द |
  • अंग्रेजी के शब्द- कलेक्टर, कन्डक्टर, अप्सर, ड्राइवर, टिकट, पुलिस, लालटेन, गैस, अस्पताल, गिलास, ऑफिसर आदि शब्द |

संकर शब्द- हिंदी के ऐसे शब्द जो दो भाषाओ से मिलकर बने होते है, उन्हें संकर शब्द कहते है | जैसे-

  • रेल+गाड़ी = रेलगाड़ी
  • टिकट+घर = टिकटघर
  • छाया+दार = छायादार
  • जाँच+कर्ता = जांचकर्ता
  • विशात+खाना = विशातखाना
  • उड़न+तस्तरी = उड़नतस्तरी

Alankar | अलंकार किसे कहते हैं | { परिभाषा, भेद और उदाहरण }

रचना या बनावट के आधार पर

रचना या बनावट के आधार पर शब्द मुख्यता तीन प्रकार के होते है | नीचे उन तीनो के नाम तथा उनके बारे में विस्तार से वर्णन किया गया है |

रूढ़ शब्द- हिंदी के ऐसे शब्द जिन शब्दों के हम टुकडे नहीं कर सकते अर्थात जो शब्द अपनी मूल अवस्था में होते है, ऐसे शब्दों को मूल शब्द कहते है | जैसे-

फल, जल, कमल, चल, घर, पढ़ आदि शब्द |

यौगिक शब्द- हिंदी के ऐसे शब्द जो दो या दो से अधिक शब्दों के मेल से बने हुए होते है उन्हें, यौगिक शब्द कहते है | जैसे-

  • भर+पेट = भरपेट
  • प्रति+दिन = प्रतिदिन
  • यथा+संभव = यथासंभव आदि शब्द |

योगरूढ़ शब्द- हिंदी के ऐसे शब्द जिनका कोई तीसरा अर्थ निकलता हो ऐसे शब्दों को योगरूढ़ शब्द कहते है | जैसे-

दशानन, चक्रपाणी, चतुर्भुज, लम्बोदर, गिरधर, नीलकंठ आदि |

नोट- योगरूढ़ शब्दों में बहुब्रीहि समास आते है |

 

 

प्रयोग के आधार पर

प्रयोग के आधार पर शब्द मुख्यतः दो प्रकार के ही होते है जिनका नीचे उदहारण सहित वर्णन किया गया है –

विकारी शब्द- हिंदी के ऐसे शब्द जो लिंग, वचन, कारक, काल, के अनुसार आपना रूप बदल देते है तो ऐसे शब्दों को विकारी शब्द कहते है | जैसे-

जेठ-जेठानी, देवर-देवरानी, सेठ,सेठानी, हम-हमें, मेरा-मेरी आदि शब्द |

अविकारी शब्द- हिंदी के ऐसे शब्द जिन पर कारक. काल, वचन, लिंग का को प्रभाव नहीं पड़ता उन्हें अविकारी शब्द कहते है | जैसे-

इधर-उधर, लेकिन, किन्तु, परन्तु आदि शब्द |

 

अर्थ के आधार पर

अर्थ के आधार पर शब्द निम्नलिखित प्रकार के होते है जो इस प्रकार से है-

समानार्थी शब्द- जिन शब्दों का सामान अर्थ निकलता हो उसे समानार्थी शब्द कहते है | जैसे-

अग्नि-पावक, जल-पानी, कमल-नीरज आदि शब्द |

विलोम शब्द- जिन शब्दों का विपरीत अर्थ निकलता हो उसे विलोम शब्द कहते है | जैसे-

  • अतिवृष्टि = अनावृष्टि
  • स्थावर = जंगम
  • दिन = रात आदि शब्द |

एकार्थी शब्द- जिन शब्दों का केवल एक ही अर्थ निकले उसे एकार्थी शब्द कहते है | जैसे-

जल, आसमान, लड़का, आदमी आदि शब्द |

अनेकार्थी शब्द- हिंदी के ऐसे शब्द जिनके अनेक अर्थ निकलते हो ऐसे शब्दों को अनेकार्थी शब्द कहते है | जैसे-

  • फल – एक फल खाने वाला एका फल परिणाम होता है
  • लाल- एका लाल बेटा होता है एक रंग
  • कनक- एका धतुरा एक सोना
  • घटा- एक का मतलब घटना तथा एक का मतलब बदल होता है |
  • बेर- एक का अर्थ खाने वाला होता है तथा एक का अर्थ समय से होता है |


वाक्य के भेद,अंग, अवयव और उदहारण [ vakya ke bhed ]

क्या विलोम के 50 उदाहरण हैं?

शब्द  विलोम 
अर्थ अनर्थ
अमीर गरीब
अनुकूल प्रतिकूल
अधिक न्यून
आयात निर्यात
आस्तिक नास्तिक
आदान प्रदान
आहार निराहार
आकाश पाताल 

उष्ण  शीत 
उत्कर्ष  अपकर्ष 
उन्नति  अवनति 
उपकार  अपकार 
कृतज्ञ कृतघ्न 
क्रिया  प्रतिक्रिया 
चंचल  स्थिर 
जड़  चेतन 
दुर्गम  सुगम 

अमृत  विष 
आपना  पराया 
अनुज  अग्रज 
अनुराग  विराग 
आधुनिक  पुरातन 
आरोह  अवरोह 
आदि  अंत 
आलस्य  स्फूर्ति 
उत्कृष्ट  निकृष्टि 
एक  अनेक 

कनिष्ठ  ज्येष्ठ 
उदार  अनुदार 
गुरु  लघु 
चतुर  मूर्ख 
जटिल  सरल 
नीरस  सरस 
प्रलय  सृष्टि 
पुरस्कार  तिरस्कार 
पोषण  कुपोषण 
दुर्बल  सबल 

दुराचारी  सदाचारी 
दुर्लभ  सुलभ 
निंदा  स्तुति 
पूर्व  पश्चिम 
प्रत्यक्ष  परोक्ष 
मनुज  दनुज 
शुक्ल  कृष्ण 
सगुण  निर्गुण 
सुमति  कुमति 
साधारण  विशेष

People also ask:-

शब्द के दो भेद कौन से हैं?

शब्द के मुख्यतः चार भेद होते है |

  • उत्पत्ति के आधार पर
  • रचना या बनावट के आधार पर
  • प्रयोग या रूपांतरण के आधार पर
  • अर्थ के  आधार पर   (इन सभी का वर्णन ऊपर विस्तार से किया गया है |)

शब्द क्या है और इसके प्रकार?

दो या दो से अधिक सार्थक वर्णों के मेल को शब्द कहते है | जैसे- ज+ल = जल | शब्द के भेद चार होते है और उन सबके अलग अलग प्रकार है जिसको आप विस्तार से ऊपर जेक पढ़ सकते है |

रचना के आधार पर शब्द के कितने भेद होते हैं?

रचना के आधार पर शब्द मुख्यता तीन प्रकार के होते है |

  • रूढ़ शब्द -जैसे फल, जल, कमल, चल, घर, पढ़ आदि शब्द |
  • यौगिक शब्द– जैसे- भर+पेट = भरपेट , प्रति+दिन = प्रतिदिन आदि |
  • योगरूढ़ शब्द – जैसे- दशानन, चक्रपाणी, चतुर्भुज, लम्बोदर, गिरधर, नीलकंठ आदि |

अर्थ के आधार पर शब्दों के कितने भेद होते हैं?

अर्थ के आधार पर शब्द चार प्रकार के होते है |

  • समानार्थी शब्द– जैसे- अग्नि-पावक, जल-पानी, कमल-नीरज आदि शब्द |
  • विलोम शब्द- जैसे- अतिवृष्टि = अनावृष्टि,स्थावर = जंगम |
  • एकार्थी शब्द– जैसे- जल, आसमान, लड़का, आदमी आदि शब्द |
  • अनेकार्थी शब्द– जैसे- फल – एक फल खाने वाला एका फल परिणाम होता है

 

आशा करता हु की आपको शब्द किसे कहते है ? शब्द के कितने भेद होते है | तथा इसके उदहारण समझ में आया होगा | आप हिंदी के और बहुत सारे टॉपिक के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है –

आप हमारे Youtub चैनल से भी जुड़ सकते है |- क्लिक करे 

Leave a Comment